छत्तीसगढ़

कैसे बनाया जाता हैं छत्तीसगढ़ का सबसे फेमस बोहार भाजी ? क्यों होती हैं इतनी महंगी…जानिए

Views: 223

Share this article

रायपुर : छत्तीसगढ़ में बोहर भाजी का महत्व बहुत अधिक है। यहाँ की स्थानीय खाद्य संस्कृति में बोहर भाजी एक मुख्य स्थान रखती है। यहाँ के लोग इसे स्वादिष्ट और पोषक व्यंजन के रूप में मानते हैं। छत्तीसगढ़ की कृषि भूमि बोहर भाजी की खेती के लिए उत्तम होती है और इससे लोगों को आर्थिक लाभ मिलता है।

छत्तीसगढ़ में बोहर भाजी लोगों के भोजन में विशेष रूप से उपयोग की जाती है और स्थानीय रेस्तरां और दुकानों पर इसे उपलब्ध किया जाता है। इसके साथ ही, बोहर भाजी छत्तीसगढ़ की परंपरागत खाद्य संस्कृति का अहम हिस्सा भी है और स्थानीय त्योहारों और उत्सवों में भी इसे प्रस्तुत किया जाता है। इससे छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक और भौगोलिक पहचान में भी यह महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

बोहर भाजी  कुछ मुख्य विशेषताएं :

अद्वितीय स्वाद: बोहर भाजी का स्वाद अपने विशेष स्वाद और आरोग्यदायक गुणों के लिए प्रसिद्ध है।

पोषक तत्व: बोहर भाजी में विभिन्न पोषक तत्वों का समृद्ध संयोजन होता है, जो आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है।

विविधता: इसके कई संस्करण हो सकते हैं, जैसे कि बोहर भाजी मसाला, बोहर भाजी पनीर, या बोहर भाजी आलू।

आसानी से बनाया जा सकता है: इसे बनाने के लिए सामग्री आसानी से उपलब्ध होती है और इसे जल्दी से बनाया जा सकता है।

बोहर भाजी को कई कारणों से पसंद किया जाता है.
स्वादिष्ट और आरोग्यदायक: इसमें विभिन्न मसालों और पोषक तत्वों का संगम होता है, जिससे इसका स्वाद और पोषण बढ़ जाता है।

विविधता: बोहर भाजी कई विभिन्न तरीकों से बनाई जा सकती है, जिससे इसका स्वाद और रंग विविध होता है।

साथी: इसे आमतौर पर चावल, रोटी, नान या परांठे के साथ सर्व किया जाता है, जिससे खाने का अनुभव और भी अधिक संतुलित होता है।

परंपरागत: बोहर भाजी भारतीय रसोई का एक प्रसिद्ध पारंपरिक व्यंजन है, जिसे लोग पुरानी और अपनी पसंद की यादों के साथ संबंधित करते हैं।

बोहर भाजी की महंगाई के कारण:

प्राकृतिक आपदाएं: मौसम की अनियमितता, बारिश, या प्राकृतिक आपदाएं फसल उत्पादन को प्रभावित कर सकती हैं, जिससे उत्पादकों को उचित मूल्य में बोहर भाजी उपलब्ध नहीं होती है।

उत्पादन में कमी: किसानों के उत्पादन में कमी, जैसे कि बुरी मौसम के कारण हो सकती है, इससे बोहर भाजी की आपूर्ति में कमी होती है और मूल्य बढ़ जाता है।

आर्थिक कारण: कई बार उत्पादकों के द्वारा उत्पादन की चार बढ़ाने के लिए नई तकनीकों या उपकरणों की आवश्यकता होती है, जिससे बोहर भाजी का उत्पादन महंगा हो सकता है।

मांग का वृद्धि: अधिक लोगों की बढ़ती मांग भी बोहर भाजी की मूल्यों को बढ़ा सकती है, क्योंकि उत्पादकों को आपूर्ति को संतुलित करने के लिए अधिक श्रम और संसाधनों की आवश्यकता होती है।

कैसे बनाते हैं बोहर भाजी

सामग्री:

500 ग्राम बोहर भाजी (पलक, चावल का पत्ता, साग आदि)
1 बड़ा प्याज, कटा हुआ
2 टमाटर, कटे हुए
2 हरी मिर्च, कटी हुई
1 टीस्पून लहसुन, कटा हुआ
1 टीस्पून अदरक, कटा हुआ
1/2 टीस्पून हल्दी पाउडर
1 टीस्पून धनिया पाउडर
1/2 टीस्पून लाल मिर्च पाउडर
नमक स्वादानुसार
तेल
प्रक्रिया:

एक कढ़ाई में तेल गरम करें। फिर उसमें प्याज, लहसुन, और अदरक डालें और उन्हें सुनहरा होने तक भूनें।
अब उसमें टमाटर और हरी मिर्च डालें और उन्हें अच्छे से पकाएं।
फिर हल्दी पाउडर, धनिया पाउडर, लाल मिर्च पाउडर, और नमक डालें। मिला कर अच्छे से पकाएं।
अब उसमें बोहर भाजी डालें और उसे हल्का-फुल्का पकाएं, ढककर 5-7 मिनट तक पकाएं।
बोहर भाजी तैयार है। इसे गरमा गरम चावल, रोटी, नान या परांठे के साथ परोसें।
आप अपनी पसंद के अनुसार इसे स्वादिष्ट बना सकते हैं और अन्य सामग्रियों के साथ भी उपयोग कर सकते हैं।

महिला की बेरहमी से हत्या : पति ने पत्नी को उतारा मौत घाट…जानिए क्या है पूरा मामला
रूह कंपा देने वाली घटना : कक्षा तीसरी की नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म…फिर कर दी हत्या…पढ़िए पूरी खबर

ताजा खबर

जीवन शैली

खेल

गैजेट

देश दुनिया

You May Also Like