देश दुनिया

इन लोगों को नहीं देखना चाहिए होलिका दहन…रिश्ते में आ सकती है खटास

Views: 206

Share this article

Holika Dahan 2024: होली का त्योहार भारतीय सांस्कृतिक और धार्मिक परंपराओं में महत्वपूर्ण है। यह त्योहार उत्साह, खुशी, और सामाजिक एकता का प्रतीक है। कई कहानियां और परंपराएं होली के पीछे हैं, लेकिन सबसे प्रमुख कहानी है प्रहलाद और हिरण्यकश्यप की। प्रहलाद नामक बच्चे को उनके पिता हिरण्यकश्यप के प्रति भक्ति की शिक्षा नहीं पसंद थी, और हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका की सहायता से प्रहलाद को आग में डालने की कोशिश की थी। हालांकि, भगवान विष्णु की कृपा से प्रहलाद को कुछ नहीं हुआ, और होली के नाम पर इस घटना को स्मरण करते हुए होली का त्योहार मनाया जाता है।

होली में रंगों का उपयोग किया जाता है, लोग एक-दूसरे पर अद्भुत रंगों के गुलाल फेंकते हैं, और मिठाईयाँ खाते हैं। इसके अलावा, होली में सभी के बीच सामाजिक बंधन बढ़ते हैं और वास्तविकता में भ्रातृभाव और सामरस्य का अनुभव होता है। होली के एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता हैं. लेकिन कुछ लोगों को होलिका दहन नहीं देखना चाहिए।

अस्थिमित्रों (ऑस्टियोपोरोसिस) जैसी हड्डी संबंधी बीमारीओं से पीड़ित लोग।श्वासनली और हृदय संबंधी बीमारीओं (अस्थमा, दिल की बीमारी) से प्रभावित लोग। चर्म रोग (एक्जिमा, प्सोराइसिस) के मरीज़। यहां तक कि बच्चों और गर्भवती महिलाओं को भी धूप और धूल से बचाना चाहिए। और यही नहीं बल्कि सदियों से चली आ रही परम्परा के अनुसार, नव विवाहिता को अपनी सास के साथ होलिका दहन नहीं देखना चाहिए। क्योंकि ऐसा माना जाता है कि सास और बहू द्वारा होलिका दहन साथ में देखने से उनके रिश्तों में खटास आ सकती है। ऐसे में नव विवाहिता द्वारा अपनी पहली होली मायके में मनाने की प्रथा चली आ रही है।

अब घर बैठे जुड़वाएं मतदाता सूची में नाम…चुनाव आयोग ने लांच किए ये खास एप…उम्मीदवारों की भी मिलेगी पूरी जानकारी
CG ब्रेकिंग : अब प्रदेश में शराब घोटाला करने वालों को मिलेगी सजा

ताजा खबर

जीवन शैली

खेल

गैजेट

देश दुनिया

You May Also Like