देश दुनिया

हर-हर महादेव….आज से शुरू हुई अमरनाथ यात्रा,पहले जत्थे के श्रद्धालुओं ने किए बाबा बर्फानी के दर्शन

Views: 125

Share this article

श्रीनगर। अमरनाथ यात्रा (amarnath yatra)आज (29 जून) से शुरू हो गई है। इसके लिए 28 जून को पहला जत्था रवाना हो गया था। श्रद्धालु हर-हर महादेव( har har mahadev ) के जयघोष के साथ यात्रा पर निकल गए हैं। अमरनाथ यात्रा को स्वर्ग का द्वार कहा जाता है।आप देश के किसी भी कोने में हैं, अब आसानी से अमरनाथ की यात्रा पर जा सकते हैं। बस, ट्रेन या फ्लाइट तीनों मार्ग से बाबा बर्फानी के दर्शन कर सकते हैं। ट्रेन या बस से आप कहीं से भी आ रहे हैं तो आपको कटरा तक आना होगा, वहीं फ्लाइट से आ रहे हैं तो आपको श्रीनगर आना होगा. इसके बाद जम्मू (कटरा) से आपको पहलगाम या बालटाल (कश्मीर) जाना होगा। ठीक उसी तरह श्रीनगर से पहलगाम या बालटाल जाना होगा। पहलगाम मार्ग बालटाल से थोड़ा लंबा है। बालटाल मार्ग के लिए यात्रा आधार शिविर गांदरबल जिले में सोनमर्ग के पास बालटाल स्थित है। श्रीनगर से बालटाल लगभग 95 किमी दूर है।

तीन लाख पचास हजार से ज्यादा लोगों ने पंजीकरण कराया(registration)
इस साल की अमरनाथ यात्रा के लिए तीन लाख पचास हजार से ज्यादा लोगों ने पंजीकरण कराया है. पवित्र गुफा तक पहुंचने के दोनों मार्गों पर 125 सामुदायिक लंगर स्थापित किए गए हैं और 6,000 से अधिक स्वयंसेवक श्रद्धालुओं की सहायता कर रहे हैं. एक अधिकारी ने बताया , ‘‘28 जून से 19 अगस्त तक विभिन्न मार्गों पर यातायात प्रतिबंध लगाए जाएंगे तथा लोगों की असुविधा को कम करने के लिए नियमित रूप से परामर्श जारी किया जाएगा.

पहलगाम से पवित्र गुफा कैसे पहुंचे

पहलगाम मार्ग के लिए यात्रा आधार शिविर अनंतनाग जिले में नुनवान (पहलगाम के पास) स्थित है। श्रीनगर से नुनवान लगभग 90 किमी दूर है। बालटाल मार्ग पर यात्रा एक्सेस कंट्रोल गेट डोमेल में स्थित है, जो बालटाल से लगभग 2.5 किमी की दूरी पर है। पहलगाम मार्ग पर यात्रा एक्सेस कंट्रोल गेट चंदनवाड़ी में स्थित है, जो नुनवान से लगभग 12 किमी की दूरी पर है।

क्यों यात्रा पर जाते हैं श्रद्धालु

धार्मिक मान्यता है कि जो व्यक्ति अमरनाथ गुफा में बने शिवलिंग के दर्शन करता है, उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस यात्रा को करने से 23 तीर्थों का पुण्य की प्राप्ति होती है। पुराणों में जिक्र किया गया है कि काशी में लिंग दर्शन और पूजन से दस गुना, प्रयाग से सौ गुना और नैमिषारण्य तीर्थ से हजार गुना अधिक पुण्य बाबा अमरनाथ के दर्शन करने से मिलता है। यह भी मान्यता है कि यात्रा को करने से जातक को सभी रोगों और पापों से छुटकारा मिलता है और सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है। इसलिए कठिन रास्तों के बाद शिव भक्त अमरनाथ यात्रा में शामिल होते हैं।

पवित्र गुफा श्री अमरनाथ नाथ

पवित्र गुफा के रास्ते में अमरावती और पंजतरणी नदियों का संगम आता है। कुछ तीर्थयात्री दर्शन के लिए जाने से पहले अमरावती में पवित्र गुफा के पास स्नान करते हैं। यहां दो छोटे-छोटे शिवलिंग हैं एक मां पार्वती का और दूसरा श्री गणेश का। पवित्र गुफा में शिव लिंग के दर्शन करने के बाद व्यक्ति उसी दिन समय से पहले पंजतरणी लौट सकता है।

Tags: ,
टोनही प्रताड़ना के आरोप लगाने से तंग आकर महिला ने फांसी लगाकर की आत्महत्या…सुसाइडल नोट जानिए क्या लिखा है
BREAKING : जल्द ही रायपुर वासियों को मिलेगी फास्ट चार्जिंग स्टेशन की सुविधा…MOU हुआ साइन

ताजा खबर

जीवन शैली

खेल

गैजेट

देश दुनिया

You May Also Like