8.9 C
New York
Tuesday, July 27, 2021
Home रायपुर आखिर क्यों हो रहे हैं हाई ब्लड प्रेशर का शिकार, जानिए इसके...

आखिर क्यों हो रहे हैं हाई ब्लड प्रेशर का शिकार, जानिए इसके पीछे का मुख्य कारण, क्या करें क्या नहीं, जानिए यहां सबकुछ

रायपुर। आज कल की भाग दौड़ भरी जिंदगी में हाई ब्लड प्रेशर काफी आम समस्या बनती जा रही है। ज्यादातर लोगों के इसे गंभीरता से न लेने के कारण वे आसानी से इसका शिकार बनते जा रहे है। इसके पीछे का मुख्य कारण है तनाव, जो आज के समय में सबसे अधिक है। जिसे नियंत्रण पाना मुश्किल है। इसके चपेट में अब युवा भी आ रहे है। हाई ब्लड प्रेशर कोई एक दिन में होने वाली परेशानी नहीं है, बल्की यह समय के साथ विकसित होने वाली बीमारी है। कई बार हमें पता ही नहीं चल पाता है कि हमारा ब्लड प्रेशर कब बढ़ रहा है और हम लापरवाही करते चले जाते हैं जो कि आगे चलकर हमारे लिए गंभीर समस्या पैदा कर देती है। इसलिए बहुत आवश्यक है कि सही समय पर इसके लक्षणों को पहचान लिया जाए ताकि आप डॉक्टर की सलाह ले सके।

हाई ब्लड प्रेशर होता क्या है :
हाई ब्लड प्रेशर को हाइपरटेंशन भी कहा जाता है, जिससे तात्पर्य ऐसी स्थिति से है, जिसमें दिल की धमनियों में रक्त का प्रवाह काफी तेज हो जाता है। हालांकि, यह समस्या ठीक हो सकती है, लेकिन यदि इसका इलाज काफी समय तक न हो यह तो दिल का दौरा जैसे किसी दिल संबंधी बीमारियों का कारण बन सकता है और उसकी वजह से व्यक्ति की मौत भी हो सकती है।

-हाइपरटेंशन के कारण

  1. चिंता और अनियमीत दिनचर्या – हाई ब्लड प्रेशर उन लोगों में अधिक देखने को मिलता है, जो अत्याधिक तनाव लेते हैं या फिर उनका दिनचर्या सही न हो.
  2. खाने में ज्यादा नमक खाना- यदि कोई व्यक्ति खाने में ज्यादा नमक लेता है, तो उसे हाई ब्लड प्रेशर की बीमारी होने की संभावना काफी ज्यादा बढ़ जाती है। सभी लोगों को ऐसा भोजन करना चाहिए, जिसमें किसी भी चीज की मात्रा अधिक न हो।
  3. व्यायाम न करना- किसी भी व्यक्ति के सेहतमंद रहने में व्यायाम काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है क्योंकि यह शरीर की मांसपेशियों को मजबूत करने के साथ-साथ व्यक्ति की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ता है।यदि कोई व्यक्ति नियमित रूप से व्यायाम नहीं करता है तो उसमें हाई ब्लड प्रेशर जैसी गंभीर बीमारी के होने का खतरा काफी बढ़ जाता है।
  4. वजन का अधिक होना- विशेषज्ञों द्वारा मोटापे को अच्छा नहीं माना जाता है क्योंकि उनके अनुसार मोटापे की वजह से कई सारी बीमारियों के होने का खतरा काफी हद तक बढ़ जाता है।यह बात हाई ब्लड प्रेशर पर भी लागू होती है क्योंकि ऐसे बहुत सारे मामले देखने को मिलते हैं, जिनमें हाई ब्लड प्रेशर वजन के अधिक होने की वजह से होता है।
  5. धूम्रपान या शराब का सेवन करना – हाई ब्लड प्रेशर बीमारी की संभावना उनलोगो में भी देखने को मिलती है, जो धूम्रपान या शराब का अधिक सेवन करते हैं।
  6. दवाओं के साइड इफेक्ट – अधिक दवाई लेना भी हाई ब्लड प्रेशर को बुलावा देती है।
  7. खानदानी बीमारी- हाइपरटेंशन का बहुत बड़ा कारण आनुवांशिक होता है यानी अगर पैरंट्स को हाइपरटेंशन की शिकायत रही है तो बच्चों में भी यह परेशानी हो सकती है।

-हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण

  1. लगातार सिरदर्द होना- व्यक्ति को लगातार सिरदर्द होना हाई ब्लड प्रेशर का प्रमुख लक्षण है।आमतौर पर, सिरदर्द को तनाव का परिणाम समझा जाता है और इसके लिए सिरदर्द की दवाई का सेवन ही किया जाता है। लेकिन, कई बार यह समस्या लंबे समय तक रह सकती है और यह हाई ब्लड प्रेशर का लक्षण भी हो सकता है।
  2. थकान महसूस होना- हाई ब्लड प्रेशर का अन्य लक्षण बार-बार थकान महसूस होना है। यदि किसी व्यक्ति को किसी भी काम करने में काफी थकान महसूस हो तो उसे इस समस्या को नजरअदाज नहीं करना चाहिए।
  3. सीने में दर्द होना- यदि किसी व्यक्ति के सीने में दर्द होता है, तो उसे इसकी सूचना अपने डॉक्टर को देनी चाहिए और इसका इलाज सही समय पर शुरू कराना चाहिए।
  4. सांस लेने में तकलीफ होना- अक्सर,ऐसा देखा गया है कि हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित कुछ लोगों सांस लेने में तकलीफ होती है।इसी कारण यदि किसी व्यक्ति को अचानक से सांस लेने में तकलीफ होने लगती है तो उसे इसकी जांच कराने चाहिए।
  5. दिल की धड़कनों का अनियमति गति से चलना- हाई ब्लड प्रेशर का अन्य लक्षण है दिल की धड़कने अनियमित गति से चलने लगना ।
  6. नाक से खून आना -लम्बे समय से हाई ब्लड प्रेशर से ग्रसित लोग के वस्कुलर नाजुक होने के कारण नाक से खून निकल सकता है।
  7. कुछ भी समझने और बोलने में कठिनाई होना।
  8. हाई ब्लड प्रेशर के रोगी के पैर अचानक सुन्न हो जाते हैं।
    9.हाई ब्लड प्रेशर के रोगी को सुबह बहुत कमजोरी महसूस होती है।

हाई ब्लड प्रेशर का इलाज

  1. घरेलू नुस्खे अपनाना- किसी भी अन्य बीमारी की तरह हाई ब्लड प्रेशर का इलाज भी घरेलू नुस्खे के द्वारा किया जा सकता है। इसके लिए हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित व्यक्ति को फल-सब्जी, होल ग्रेन इत्यादि का सेवन करना चाहिए।
  2. दवाई लेना- इसके अलावा हाई ब्लड प्रेशर का इलाज दवाईयों के द्ववारा भी संभव है। ये दवाईयां ब्लड प्रेशर को नियंत्रण में रखने में मददगार साबित होती हैं और व्यक्ति को सेहतमंद रहने में भी सहायता करती हैं।
  3. होम्योपेथिक इलाज कराना- वर्तमान समय में होम्योपेथिक इलाज काफी लोकप्रिय हो रहा है। होम्योपेथिक इलाज के कम जोखिम होने के कारण ज्यादातर लोग इसे अपनाते हैं।

4.आयुर्वेदिक इलाज कराना- अक्सर, हाई ब्लड प्रेशर का इलाज आयुर्वेदिक इलाज के द्वारा भी किया जाता है।लोगों में आयुर्वेदिक इलाज पर ज्यादा भरोसा है, इसी कारण वे अपना इलाज अंग्रेजी तरीके के बजाय आयुर्वेदिक तरीके से करना पसंद करते हैं।

5.दिल की सर्जरी कराना- जब हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित व्यक्ति को इलाज के किसी भी तरीके से आराम नहीं मिलता है, तब डॉक्टर उसे ह्रदय प्रत्यारोपण सर्जरी जैसी दिल की सर्जरी कराने की सलाह देते हैं।

  1. हरी सब्जी, फल की मात्रा बढ़ाएं- हर दिन सब्जियों और फलों का सेवन करें। सब्जियों में पालक और दूसरे साग जैसे बंद गोभी आदि का सेवन खूब करें।
  2. नमक बहुत कम- खाने में ऊपर से नमक लेकर खाने की आदत जरूर बंद दें। जिन्हें हाइपरटेंशन की समस्या है, उनके लिए तो यह जरूरी है कि नमक सामान्य से भी कम लें। हर दिन 3 से 5 ग्राम (लगभग 1 छोटा चम्मच) नमक काफी है। कई लोग ऊपर से नमक लेते हैं, यह हानिकारक है। नमकीन, मिक्सचर को न कहें। सेंधा नमक दूसरे नमक की तुलना में कुछ बेहतर हो सकता है।
  3. तेल मसाले में परहेज – हाइपरटेंशन को कम करने में हमारे खानपान का काफी अहम रोल होता है। अगर हाइपरटेंशन से बचना है तो ज्यादा फैट (घी, रिफाइंड और तेल) और मसाले वाले खाने से जरूर बचें।

हाई ब्लड प्रेशर से जोखिम

  1. दिल का दौरा पड़ना- ऐसे बहुत सारे मामले देखने को मिलते हैं, कि जिन लोगों को दिल का दौरा पड़ता है, उनमें से अधिकांश लोग हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित होते हैं।हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित व्यक्ति को अपने स्वास्थ का विशेष ध्यान रखना चाहिए और किसी भी तरह की समस्या होने पर उसकी सूचना अपने डॉक्टर को देनी चाहिए।
    2.किडनी का खराब होना- हाई ब्लड प्रेशर का असर मानवशरीर के अन्य अंगो पर भी पड़ता है, इसी कारण हाई ब्लड प्रेशर की वजह से किडनी की कार्य-क्षमता पर भी पड़ता है।हालांकि,किडनी का इलाज संभव है, लेकिन यदि यह समस्या लंबे समय तक ठीक न हो तो इसकी वजह से किडनी खराब भी हो सकती है।
  2. दिल का खराब होना- हाई ब्लड प्रेशर का असर शरीर के अन्य भागों पर पड़ने लगता है।अक्सर, ऐसा देखा गया है कि कई बार हाई ब्लड प्रेशर दिल के खराब होने का कारण भी बन सकता है और उस स्थिति में व्यक्ति की मौत भी हो सकती है।
  3. ब्रेन स्ट्रोक का मुख्य कारण -, हाइपरटेंशन के कारण ब्रेन स्ट्रोक होने का खतरा दोगुना हो जाता है. सिस्टोलिक रक्तचाप में हर 10 एमएम हीमोग्राम बढ़ने से इस्कीमिक स्ट्रोक का खतरा 28 प्रतिशत तथा हैमेरेजिक स्ट्रोक का खतरा 38 प्रतिशत बढ़ता है. हालांकि ब्लड प्रेशर पर नियंत्रण रखने पर स्ट्रोक होने का खतरा घट जाता है.
  4. साइलेंट कीलर – हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित 30 प्रतिशत से अधिक लोगों को इससे पीड़ित होने का पता नहीं होता है. ज्यादातर बार, इसके बहुत मामूली लक्षण प्रकट होते हैं या कोई लक्षण नहीं होते हैं जिसके वजह से यह साइलेंट अटैक भी मारता है।

हाई ब्लड प्रेशर की एहतियात

  1. ब्लड प्रेशर की नियमित रूप से जांच करना- यह बहुत महत्वपूर्ण चीज है, जिसका ध्यान हर व्यक्ति को रखना चाहिए।उन्हें अपने ब्लड प्रेशर की नियमित रूप से जांच करानी चाहिए ताकि इस बात की पुष्टि हो सके कि वे पूरी तरह से सेहतमंद हैं।
  2. व्यायाम करना- सभी लोगों के लिए व्यायाम करना काफी फायदेमंद होता है, क्योंकि यह उनकी मांसपेशियोंं को मजबूत करता है और इसके साथ में उनकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता को भी बेहतर बनाती हैं।
  3. नशीले पदार्थों का सेवन न करना- आमतौर पर, नशीले पदार्थों को किसी भी व्यक्ति के लिए लाभदायक नहीं माना जाता है क्योंकि यह उसकी सेहतमंद को खराब कर सकते हैं।यदि कोई शख्स हाई ब्लड प्रेशर की रोकथाम करना चाहता है तो इसके लिए उसे नशीले पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए।
  4. डॉक्टर के संपर्क में रहना- यह सबसे महत्वपपूर्ण चीज है, जिसका पालन सभी लोगों को करना चाहिए।यदि किसी व्यक्ति को हाई ब्लड प्रेशर का इलाज चल रहा है, तो उसे तब तक डॉक्टर के संपर्क में रहना चाहिए, जब तक वे उसे पूरी तरह से सेहतमंद घोषित न कर दें।
    रक्तचाप की नियमित रूप से जांच करना- यह बुनियादी चीज है, जिसका ध्यान हर व्यक्ति को रखना चाहिए।

इन बातो का रखे ख्याल :-हाई बीपी हार्ट अटैक, ब्रेन स्ट्रोक,ब्रेन डैमेज का गंभीर कारण बन सकता है इसलिए इस पर काबू पाना बेहद जरुरी है। व्यायाम,योगा,मॉर्निंग वाक स्ट्रेसमुक्त जीवन जीने से भी ब्लड प्रेशर कण्ट्रोल में रहता हैं।

RELATED ARTICLES

BIG BREAKING : प्रदेश के 27 प्राचार्यों और व्याख्याताओं को दी गई BEO की जिम्मेदारी, स्कूल शिक्षा विभाग ने जारी किया आदेश

रायपुरः शिक्षा विभाग ने बड़े पैमाने पर प्रदेश के अलग अलग स्कूलोें में पदस्थ व्याख्याताओं और प्राचार्यों को विकासखंड शिक्षा अधिकारी बना दिया...

बड़ी खबर: विधानसभा का मानसून सत्र, स्वास्थ्य मंत्री सदन छोड़ कर बाहर निकले, कही ये बड़ी बात

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा के मानसून सत्र के दूसरे दिन भी कांग्रेस विधायक बृहस्पत सिंह मामले को लेकर हंगामा हुआ। इस बीच स्वास्थ्य मंत्री...

BREAKING NEWS : प्रदेश में आबकारी से कमाई और खर्च पर गरमाया सदन, असंतुष्ट विपक्ष का वॉक आउट

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा के मानसून सत्र के दूसरे दिन सदन में विपक्षी सदस्य अजय चंद्राकर ने सरकार से आबकारी से कमाई, विशेष...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

रात को भोजन में पिता-पुत्र और भतीजे ने खाई मछली की सब्जी, सुबह होते ही तीनों ने तोड़ा दम, पुलिस ने जताई इसकी आंशका

पटनाः  शाम को घर में मछली पकाकर खाना एक ही परिवार के तीन लोगों को महंगा पड़ गया. रात को सब्जी में मछली...

BIG BREAKING : प्रदेश के 27 प्राचार्यों और व्याख्याताओं को दी गई BEO की जिम्मेदारी, स्कूल शिक्षा विभाग ने जारी किया आदेश

रायपुरः शिक्षा विभाग ने बड़े पैमाने पर प्रदेश के अलग अलग स्कूलोें में पदस्थ व्याख्याताओं और प्राचार्यों को विकासखंड शिक्षा अधिकारी बना दिया...

बड़ी खबर: विधानसभा का मानसून सत्र, स्वास्थ्य मंत्री सदन छोड़ कर बाहर निकले, कही ये बड़ी बात

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा के मानसून सत्र के दूसरे दिन भी कांग्रेस विधायक बृहस्पत सिंह मामले को लेकर हंगामा हुआ। इस बीच स्वास्थ्य मंत्री...

हैवानियत की हद: मां से मिलने के बहाने ले गया, सेक्स किया और फिर गला दबाकर ली पत्नी की जान

नई दिल्ली। एक सनसनीखेज मामले सामने आया है। मां से मिलने के बहाने ले गया, फिर सेक्स करने के बाद गला दबाकर हत्या...

Recent Comments

error: Content is protected !!