रिटायर्ड शिक्षक को प्लाट दिलाने का झांसा देकर ठगी

0
87

बिलासपुर। रिटायर्ड महिला शिक्षक ने करीब आठ साल पहले एमएस रायल डेवलपर्स से 3 प्लाट खरीदने का सौदा किया था। इसके लिए उन्होंने एडवांस आठ लाख 50 हजार स्र्पये भी दे दिए। इसके बाद भी डेवलपर ने जमीन की रजिस्ट्री नहीं की। शिक्षक ने इसकी शिकायत कोतवाली थाने में की है। इस पर पुलिस धोखाधड़ी का जुर्म दर्ज कर जांच कर रही है।
कोनी के रिवर व्यू कालोनी निवासी कल्पना घोष (68 वर्ष) रिटायर्ड शिक्षक है। उन्होंने सन 2012 में प्लेटिनम प्लाजा स्थित एमएस रायल डेवलपर्स से संपर्क किया था। इस दौरान डेवलपर ने उन्हें सस्ते दाम में रहंगी में जमीन दिलाने की बात कही थी।
डेवलपर की बातों में आकर रिटायर्ड शिक्षक ने तीन प्लाट की बुकिंग कर ली। साथ ही उन्होंने डेवलपर को सौदे के अनुसार आठ लाख 50 हजार स्र्पये भी दे दिए। इसके बाद डेवलपर शिक्षक को जमीन की रजिस्ट्री के लिए गुमराह करता रहा। बाद में डेवलपर्स ने मास्टर प्लान लागू होने के बाद रजिस्ट्री की बात कही।

जमीन की रजिस्ट्री के टालने पर महिला ने अपने स्र्पये वापस मांगे। इस पर डेवलपर ने स्र्पये देने से इंकार कर दिया। आठ साल तक जमीन की रजिस्ट्री नहीं होने पर शिक्षक ने इसकी शिकायत कोतवाली थाने में की। इस पर पुलिस ने जुर्म दर्ज कर लिया है।

जमीन नहीं मिलने पर शिक्षक ने डेवलपर के वेबसाइट पर दिए नंबर पर फोन किया था। साथ ही उनके आफिस भी जाकर देखा गया। इस दौरान आफिस बंद था। वहीं, फोन से भी डेवलपर से संपर्क नहीं हो पा रहा था। इस पर शिक्षक ने कोतवाली थाने में शिकायत कर दी। इसके बाद किसी जयदीप नाम के व्यक्ति ने फोन किया। इसके बाद से लगातार फोन कर समझौते की बात कही जा रही है।