धोनी ने मानी गलती, ब्रावो से आखिरी ओवर नहीं करवाने पर कही चौंकाने वाली बात

0
52

इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन में शनिवार को दो बेहद ही रोमांचक मुकाबले देखने को मिले. दिल्ली कैपिटल्स ने चेन्नई सुपर किंग्स को 5 विकेट से मात दी. दिल्ली को आखिरी ओवर में जीत के लिए 17 रन चाहिए थे, लेकिन अक्षर पटेल ने जडेजा को तीन छक्के जड़ बेहद ही आसानी से यह मुश्किल लक्ष्य हासिल कर लिया. हार के बाद धोनी ने बताया है कि क्यों उन्होंने ब्रावो की बजाए जडेजा को आखिरी ओवर में गेंदबाजी दी.

ब्रावो की बजाए जडेजा से आखिरी ओवर करवाने के धोनी के फैसले की काफी आलोचना हो रही है. एक्सपर्ट्स के मानना है कि अगर जडेजा की बजाए ब्रावो पर भरोसा जताया जाता तो मैच का नतीजा कुछ और हो सकता था.

लेकिन धोनी ने बताया है कि ब्रावो आखिरी ओवर से पहले चोटिल हो गए थे. धोनी ने कहा, “ब्रावो फिट नहीं थे. वह बाहर गए और फिर वापस नहीं लौटे. इसलिए विकल्प जडेजा या कर्ण शर्मा थे. मैं जडेजा के साथ गया.”

धोनी एक बार फिर सैम कुरैन के प्रदर्शन से खुश दिखे क्योंकि कुरैन ने 19वें ओवर में महज चार रन दिए एक तरह से चेन्नई का वापसी करा दी थी. धोनी ने कहा, “एक अच्छी चीज कुरैन का ओवर रहा. वह वाइड यॉर्कर को अच्छे से लागू कर सके. वह आमतौर पर इसे लेकर ज्यादा आत्मविश्वासी नहीं रहते हैं, लेकिन आज उन्होंने अच्छा किया.”

बता दें कि धवन ने आईपीएल में अपना पहला शतक जड़ दिल्ली को जीत दिला दी. इस पारी में चेन्नई के फील्डरों का अहम योगदान रहा जिन्होंने धवन के तीन कैच छोड़े. चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने इस बात को कबूल किया कि धवन का विकेट चेन्नई की जीत के लिए अहम था. मैच के बाद धोनी ने कहा, “धवन का विकेट अहम था, लेकिन हमने उनके कुछ कैच छोड़े. अगर वह लगातार बल्लेबाजी करते रहेंगे तो वह स्ट्राइक रेट को ऊंचा रखेंगे.”