अजरबैजान में अभी शांति नहीं, गांजा शहर पर हमला, 5 की मौत, 35 घायल

0
28

अजरबैजान. अजरबैजान के गांजा शहर पर हुए मिसाइल हमले में पांच लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 35 अन्य घायल हुए हैं। अजरबैजान के राष्ट्रपति कायार्लय के अधिकारी हिकमत हाजीयेव ने शनिवार को ट्वीट कर यह जानकारी दी। 

हाजीयेव ने ट्वीट किया, “अर्मेनिया की ओर से किए गए मिसाइल हमलों में पांच नागरिकों की मौत हो चुकी है जबकि 35 नागरिक घायल हो चुके हैं। आपातकालीन सेवाओं के कर्मचारी राहत एवं बचाव कायोर्ं में जुटे हुए हैं। अमेर्िनया का आतंकवाद और युद्ध अपराध लगातार जारी है।” 

अजरबैजान के गांजा शहर पर हमला, पांच लोगों की मौत, 35 घायलदरअसल, अर्मेनिया और अजरबैजान की सेना के बीच 27 सितंबर से ही नागोनोर-काराबख क्षेत्र में एक इलाके पर कब्जे को लेकर हिंसक संघर्ष जारी है। इस संघर्ष में अब तक दोनों ओर से कई लोगों की मौत हो चुकी है। रूस की मध्यस्थता के बाद 10 अक्टूबर को दोनों ही देश युद्ध विराम लागू करने पर सहमत हो गए थे, लेकिन हिंसा दोबारा शुरू हो गयी है। 

अजरबैजान ने आंशिक रूप से देश में मार्शल लॉ लागू कर दिया है। अजरबैजान ने अपने हवाई अड्डों को सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के लिए बंद कर दिया है। केवल तुर्की को इससे छूट दी गयी है। तुर्की ने खुले तौर पर अजरबैजान को समर्थन देने की घोषणा की है।

गौरतलब है कि अर्मेनिया और अजरबैजान दोनों ही देश पूर्व सोवियत संघ का हिस्सा थे। लेकिन सोवियत संघ के टूटने के बाद दोनों देश स्वतंत्र हो गए।अलग होने के बाद दोनों देशों के बीच नागोनोर-काराबख इलाके को लेकर विवाद हो गया। दोनों देश इस पर अपना अधिकार जताते हैं। अंतरराष्ट्रीय कानूनों के तहत इस 44०० वर्ग किलोमीटर क्षेत्र को अजरबैजान का घोषित किया जा चुका है, लेकिन यहां आमेर नियाई मूल के लोगों की जनसंख्या अधिक है।

इसके कारण दोनों देशों के बीच 1991 से ही संघर्ष चल रहा है। वर्ष 1994 में रूस की मध्यस्थता से दोनों देशों के बीच संघर्ष-विराम हो चुका था, लेकिन तभी से दोनों देशों के बीच छिटपुट लड़ाई चलती आ रही है। दोनों देशों के बीच तभी से ‘लाइन ऑफ कंटेक्ट’ है। लेकिन इस वर्ष जुलाई  से हालात खराब हो गए हैं। इस इलाके को अर्तसख के नाम से भी जाना जाता है।
अमेरिका, रूस, जर्मनी और फ्रांस समेत कई अन्य देशों ने दोनों पक्षों से शांति की अपील की है।