एसडीएम की मौजूदगी में बीजेपी MLA के करीबी ने की फायरिंग, एक शख्स की मौत

0
6

बलिया. उत्तर प्रदेश के बलिया में कोटे की दुकान के आवंटन के लिए बुलाई गई खुली बैठक में फायरिंग हई. जिस वक्त फायरिंग हुई पुलिस के अधिकारी और एसडीएम के अलावा मौके पर 500 लोगों की भीड़ भी मौजूद थी. बीजेपी विधायक सुरेन्द्र सिंह करीबी बीजेपी के कार्यकर्ता धीरेंद्र प्रताप सिंह उर्फ डब्लू सिंह ने इस दौरान फायरिंग की. फायरिंग में गोली लगाने से एक व्यक्ति की मौत हो गई. घटना रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर गांव की है.

लोगों की भीड़ के बीच आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह ने फायरिंग की तो मौके पर भगदड़ मच गई. बलिया के रेवती थानाक्षेत्र के दुर्जनपुर गांव में सरकारी कोटे की दुकान के आवंटन को लेकर खुली बैठक बुलाई गई थी. इस बैठक में क्षेत्राधिकारी, थानाध्यक्ष और एसडीएम मौजूद थे. आवंटन के लिए दो समूह के लोग जमा थे, जिनमें एक पक्ष आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह था. अभी प्रक्रिया चल ही रही थी कि धीरेंद्र और दूसरे समूह के बीच कहासुनी होने लगी.

कहासुनी के बाद हंगामा हो गया. हंगामा को देखकर एसडीएम ने आवंटन की प्रक्रिया रोक दी. इसके बाद जब लोग वहां से जाने लगे तो धीरेंद्र प्रताप सिंह ने फायरिंग कर दी. गोली जयप्रकाश उर्फ गामा पाल को लगी, जिनकी अस्पताल ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई.

मृतक के बेटे अभिषेक कुमार पाल की मानें तो कोटे की दुकान के लिए बैठक हुई थी, एसओ से धीरेंद्र प्रताप सिंह की कहासुनी हुई. इसी बीच धीरेंद्र प्रताप सिंह ने गोली मार दी. पुलिस ने आरोपी को उसी वक्त पकड़ लिया. कोटे की दुकान के आवंटन प्रक्रिया में एसओ बैरिया और एसडीएम बैरिया और पुलिस के लोग मौजूद थे. गोली मारने वाला धीरेंद्र प्रताप सिंह विधायक सुरेंद्र सिंह से ताल्लुक रखता है.

हैरानी की बात ये है मृतक के बेटे अभिषेक कुमार पाल ने बताया है कि पुलिस ने आरोपी को उसी वक्त पकड़ लिया लेकिन पुलिस धीरेंद्र प्रताप सिंह की गिरफ्तारी से इनकार कर रही है. पुलिस की मानें तो दो स्वयं सहायता समूह के बीच जब कहासुनी होने लगी और हंगामा हो गया तो एसडीएम ने कोटे की दुकान के आवंटन प्रक्रिया को रोक दिया उसके बाद लोग जाने लगे. जब लोग जाने लगे तो धीरेंद्र प्रताप सिंह ने गोली चला दी जिसमें जयप्रकाश उर्फ गामा पाल को गोली लग गई. घटना की जानकारी की जा रही है, आरोपी अभी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है.

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इस मामले में जय प्रकाश के भाई चंद्रमा की शिकायत पर चार नामजद और 15 से 20 अज्ञात व्यक्तियों के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की सुसंगत धारा में मामला दर्ज किया गया है. उन्होंने बताया कि मौके पर पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है और वहां पर शांति है.