नाबालिग को किडनैप कर ग्वालियर इस गंदा काम के लिए ले जाने के फिराक में था युवक, फिर अचानक पहुंची पुलिस तो…

0
121
file photo

बिलासपुर। आरपीएफ की सतर्कता से अपहरणकर्ता, अपहृत बच्चे के साथ पेंड्रा रोड स्टेशन में पकड़ लिया गया जो भिंड भागने की फिराक में अमरकंटक एक्सप्रेस की प्रतीक्षा कर रहा था। भिंड शेरपुर का रहने वाला कल्लू उर्फ कालीचरण कुशवाहा 2 वर्ष के आर्यन को उसलापुर से किडनैप कर ग्वालियर ले जाने की फिराक में था, जिसकी तलाश में तोरवा पुलिस ने रेलवे पुलिस से मदद मांगी थी। पुलिस से सूचना मिलने के बाद आरपीएफ लगभग सभी स्टेशनों में संदिग्ध की तलाश कर रही थी। इसी बीच पेंड्रा रोड प्लेटफार्म पर एक संदिग्ध व्यक्ति आरपीएफ को देखकर भागने लगा, जिसके बाद आरपीएफ ने घेराबंदी कर उसे पकड़ा, जिसके पास एक 2 साल का बच्चा भी था।

पूछताछ में उस व्यक्ति ने कहा कि यह बच्चा उसकी गर्लफ्रेंड का है। उसने यह भी बताया कि वह इस बच्चे को लेकर उसलापुर से पैदल चलते हुए पेंड्रा रोड स्टेशन तक पहुंचा है, जहां वह अमरकंटक एक्सप्रेस की प्रतीक्षा कर रहा था। उसके पास मौजूद रेलवे टिकट से पता चला कि वह बच्चे को लेकर ग्वालियर जाने की फिराक में था। जब रेलवे पुलिस ने संदिग्ध व्यक्ति के बारे में जानकारी जुटाई तो पता चला कि तोरवा पुलिस जिस अपहरणकर्ता को खोज रही थी वह यही था।

सूचना मिलने के बाद तोरवा थाने से एक टीम पेंड्रारोड पहुंची, जिन्हें आरोपी कालीचरण कुशवाह को सौंप दिया गया। वहीं पुलिस ने अपहृत बच्चे आर्यन को भी उससे सुरक्षित बचा लिया। पता चला कि किडनैपर कालू, आर्यन के ही घर में घरेलू नौकर था, जिसने मौका पाकर बच्चे का अपहरण कर लिया था और उसकी मंशा फिरौती में बड़ी रकम हासिल करने की थी, लेकिन आरपीएफ की सतर्कता की वजह से वह अपने मकसद में कामयाब नहीं हो पाया।