24 युवतियों को चेन्नई ले जाते बस को पुलिस ने पकड़ा, सरगुजा पुलिस जांच में जुुटी पुलिस कल कर सकती है बड़ा खुलासा, जाने क्या है 24 युवतियों एवं एक युवक के पकड़े जाने का मामला…

0
765

सरगुजा समय अम्बिकापुर- सरगुजा पुलिस ने आज शाम जिस हिसाब से पुलिस के सामने एक बड़ा मामला आया है। उस हिसाब से पुलिस कल एक बड़ा खुलासा कर सकती है। मिली जानकारी के अनुसार छत्तीसगढ़ के विभिन्न क्षेत्रों से युवतियों को चेन्नई ले जा रही एक बस क्रमांक टीएन 31 एफ 3737 को अम्बिकापुर पुलिस के द्वारा जांच के लिए रुकवाया गया। जिसके बाद पुलिसकर्मियों की भी आखे फटी की फटी रह गई। सूत्रों के हवाले से तमाम मामले के बारे में जब जानने का प्रयास किया गया तब विशेष सूत्रों के द्वारा यह बताया जा रहा कि अन्य राज्य की एक बस जिसमें 24 युवतियों को एक युवक के साथ चेन्नई लेकर जा रहा था। परन्तु पुलिस की नजर इस बस में पड़ी एवं जांच के लिए बस को रोका गया। फिलहाल पुलिस दस्तवेजों के आधार पर बस में सवार तमाम युवतियों एवं युवक के उम्र की पड़ताल करने का दावा कर रही है और अन्य जानकारी के लिए आज उन्हें अम्बिकापुर में ही रोका गया है। फिलहाल मामले में पुलिस कार्रवाई कर रही है, साथ ही सखी सेंटर की टीम को भी पुलिस ने सूचना दे दी है।

मिली जानकारी के अनुसार बस में पुलिस ने 24 युवतियों व एक युवक को संधिग्ध मानते एवम जानते हुए रोका है जिसके जांच कि कार्यवाही कि गई है एवं आला अफसरों के द्वारा कल सुबह तमाम मामले का जांच अलग से किया जाना माना जा सकता है। मिली जानकारी के अनुसार 24 युवतियों में 17 युवती बलरामपुर, 07 युवती जांजगीर चांपा व एक युवती कोरिया जिले से है। वहीं एक युवक भी बलरामपुर जिला का है। पुलिस की पूछताछ के दौरान युवतियों ने बताया कि वे लोग चेन्नई के एक कंपनी में काम करते हैं। जहां उन्हें ले जाया जा रहा है। फिलहाल पुलिस दस्तावेजों के आधार पर युवतियों की उम्र की जांच कर रही है।

कोई वैद्य दस्तावेज नहीं

पुलिस के पूछताछ में लड़कियों के पास से न तो कोई वैद्य दस्तावेज नहीं मिला है। वहीं लिखित रूप में कंपनी के तरफ से कोई काॅल लेटर भी इन संद्घिग्धो के पास से नहीं मिला है। ऐसे में इस मामले को संदिग्ध मानते हुए इसकी जांच में जुट गई है।

लड़कियां बोली – स्वतंत्र होकर जा रहे काम पर

इधर पुलिस की पूछताछ में लड़कियों का कहना है कि वह अपने परिजनों के सहमति के बाद ही काम पर जा रही है। हालंकि किसी के पास काॅल लेटर व कोई वैद्य दस्तावेज नहीं है। ऐसे में मामला अत्यंत संदिग्ध रूप से नजर आ रहा है। अब देखना है कि सरगुजा पुलिस इस मामले को गंभीरता से लेकर गंभीरता से जांच करती है या खाना पूर्ति करते हुए लापरवाही बरतने के मुड में है।

इस मामले में प्रभारी मणिपुर चैकी प्रभारी बिरेन्द्र कुजूर ने बताया कि मामले की जांच कर रहें। सारे युवतियों को हम लोग शासकीय संप्रेषण गृह कन्या परिसर रोड़ में रखा है वहीं युवक को कोतवाली थाना में रखा गया है।

कल हो सकता है बड़ा खुलासा क्रमशः