पाकिस्तान में मौलाना का मर्डर, इमरान खान ने बिना कोई सबूत भारत पर मढ़ दिए आरोप

0
5

इस्लामाबाद | पाकिस्तान के कराची में बाइक सवार बदमाशों ने एक प्रभावशाली सुन्नी मौलाना की गोली मारकर हत्या कर दी। मौलाना आदिल खान की हत्या की हर तरफ आलोचना की जा रही है और इसे देश में सुन्नी और सुन्नी के बीच हिंसा भड़काने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने इसको लेकर भारत पर आरोप मढ़ दिए। हालांकि, अपनी बात के समर्थन में उन्होंने कोई सबूत नहीं दिए हैं। 

मौलाना आदिल खान दिवंगत विद्वान मौलाना सलीमुल्लाह खान के बेटे हैं, जिन्होंने दशकों पहले जामिया फरूकिया की स्थापना की थी। यह मदरसा देवबंदी संप्रदाय के सुन्नी मुस्लिम शिक्षाओं का पालन करता है, जिसके कई विद्वानों की पूर्व में भी हत्या की जा चुकी है। खान ने धार्मिक शिक्षा में डॉक्टोरेट की उपाधि ली थी और अपने पिता के शिक्षणकेंद्र में प्रशिक्षण लिया और मेलशिया में भी पढ़ा चुके थे। 

पुलिस प्रमुख गुलाम नबी मेमोन ने कहा कि शनिवार शाम हुए हमले में मौलाना और उनके ड्राइवर दोनों मैरे गए। शाह फैसल कॉलोनी के पास उन पर हमला हुआ था। पुलिस ने कहा कि जब मौलाना की गाड़ी एक व्यस्त खरीदारी वाले इलाके में रुकी तभी बाइक सवारों ने पहले ड्राइवर और फिर मौलाना को गोली मार दी। इसके बाद वे बाइक से भाग निकले। खान को तुरंत एक प्राइवेट अस्पताल में ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। चालक की मौत अस्पताल पहुंचने से पहले ही हो चुकी थी। 

पाकिस्तान में सुन्नी और शिया समुदाय के बीच खूनी दुश्मनी का पुराना इतिहास है। दोनों तरफ से सैकड़ों लोगों की जानें ली जा चुकी हैं। खास तौर पर धार्मिक विद्वानों की जान ली जाती है। आंतक-रोधी पुलिस अधिकारी रजा उमर खिताब ने कहा कि ऐसा प्रतीत हो रहा है कि यह हत्या संप्रदायों के बीच हिंसा फैलाने की साजिश के तहत हुई है।