Love crime : पहले विवाहित युवक ने अविवाहित बताकर किया दोस्ती, फिर प्यार, फिर बालात्कार, फिर शादी, फिर लाखों की लूट… ऐसा है महिला अधिकारी की क्राईम स्टोरी…

0
568

सरगुजा समय। बैकुंठपुर। शादीशुदा होते हुए भी खुद को अविवाहित बताकर युवक ने कोरिया जिला निवासी एक महिला अधिकारी को प्रेमजाल में फंसाया। फिर उससे शादी कर सालभर दैहिक शोषण किया और उससे 20 लाख रुपए ऐंठ लिए। रुपयों से उसने 4 ट्रक व एक कार भी खरीदी लेकिन ट्रक से कमाई का एक पैसा भी नहीं दिया।

यही नहीं महिला को उसने अपने घर भी आने दिया। अब पीड़िता आरोपी युवक के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर दर-दर भटकने को विवश है।
वहीं दूसरी ओर पीड़िता का आरोप है कि अपराध दर्ज होने के बाद भी आरोपी के खिलाफ पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है। ऐसे में वह खुलेआम घूम रहा है। मामले की शिकायत गृहमंत्री, महिला आयोग, अजजा आयोग व सरगुजा आईजी से भी की गई है।
महिला अधिकारी के अनुसार ग्राम महोरा थाना पटना विकासखण्ड बैकुंठपुर निवासी आरोपी मजहर खान पिता शेर खान से वर्ष 2019 में जान पहचान हुई थी। इस दौरान आरोपी अपने आप को पत्रकार बताकर लगातार बातचीत करता था। अविवाहित होने की बात कहने पर गहरी दोस्ती हो गई थी।


इसी बीच आरोपी ने पीड़िता के संबंध में पूरी जानकारी लेकर शादी का प्रस्ताव रखा था, जिसे पीड़िता ने स्वीकार कर लिया। मामले में आरोपी ने अपनी मां को सारी बातें बताई और इकरारनामा कर अंतरजातीय विवाह कर लिया। इसकी पुष्टि के लिए रायगढ़ से बकायदा नोटरी कराने के बाद 2 अप्रैल 2020 को पंजीयन कराया गया था।
वहीं दूसरी ओर आरोपी ने पीड़िता की कमाई पर टेढ़ी नजर रखी थी। साथ ही स्वयं का व्यवसाय खोलकर माली हालत ठीक करने के बाद निकाह करने, माता-पिता के साथ रखने, पारिवारिक-सामाजिक अधिकार दिलाने के नाम पर 20 लाख ऐंठ लिए गए। पीड़िता की ओर से ससुराल में रखने की बात कहने पर हमेशा टाल मटोल करता था।

शंका होने पर आरोपी के संबंध में जानकारी जुटाई तो पता चला कि आरोपी पहले से शादीशुदा है और पीड़िता को अंधेरे में रखकर एक साल से मानसिक, शारीरिक रूप से प्रताड़ित कर रहा था। मामले में आजाक थाना बैकुंठपुर में आरोपी मजहर खान सहित जरीना बेगम पति मो. शेरखान, सन्ना फरजाना पति मजहर खान, मोहम्मद शेर खान के खिलाफ धारा 376, 420, 34, 506 के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया है। वहीं पीडिघ्ता का रास्ता रोककर धमकाने पर आरोपी सहित 3 के खिलाफ धारा 294, 506, 509, 341, 34, 3(2)(द)(ध)3(2)(5क) एससी-एसटी एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्ध है।

पीड़िता ने बताया कि आरोपी मजहर खान ने धोखे में रखकर 20 लाख रुपए ऐंठ लिए हैं। पीड़िता ने आरोपी के कहने पर सीपीएस, एलआइसी से पर्सनल लोन, वेतन की राशि, गहना-जेवर बेचकर पैसा दिया था। तब आरोपी ने 4 ट्रक, एक कार खरीदकर ट्रांसपोर्ट का व्यवसाय शुरू किया है।
बावजूद पीड़िता को ट्रांसपोर्ट से होने वाली कमाई का एक पैसा नहीं दिया और निकाह भी नहीं किया। मामले में आरोपी के घर जाकर निकाह कर साथ रखने की बात कहने पर जातिगत गलौज कर जान से मारने की धमकी दी थी। वहीं आरोपी ने 3 मार्च 2020 को पीड़िता से जातिगत गाली गलौज कर जमकर मारपीट की और जबरन विवाह विच्छेद (तलाक के कागजात) पर हस्ताक्षर करा लिया है।

पीड़िता का कहना है कि आरोपी के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध होने के बाद भी पुलिस द्वारा किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की जा रही है। पीड़िता ने बताया कि उसने आरोपी को 5 अक्टूबर को ग्राम जमगहना में मंदिर के पास देखा था।
उसी समय आजाक थाना प्रभारी व विवेचना अधिकारी मोबाइल व वाट्सएप से सूचना दी, इसके बावजूद उसे गिरफ्तार नहीं किया गया। आरोपी को राजनीतिक दल के बड़े नेताओं का संरक्षण मिला हुआ है। इसलिए पुलिस कार्रवाई करने में सुस्त रवैय्या अपना रही है।

इस संबंध एसडीओपी कर्णकुमार उईके का कहना है कि मुझे इस केस से संबंधित फाइल 20-25 दिन पहले ही मिली है। फिलहाल एक ट्रक को जब्त कर लिया गया है और आरोपी की तलाश जारी है।