छ: प्रधानमंत्रियों के साथ कैबिनेट में काम करने वाले पासवान अब नहीं रहे ..

राम विलास पासवान का आज शाम को निधन हो गया जिससे राजनितिक गलियारों में शोक का लहर है बताया जाता है की राजनितिक मामलो में माझे हुए खिलाडी थे पासवान इन्होने हमेशा राजनितिक मौसम को परखा है और मंत्री पद पर अपने राजनिति मौसमी जानकार के कारन बने रहते है | राम विलास पासवान को  मजाक में राष्‍ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव मौसम वैज्ञानिक बुलाते थे.

लालू प्रसाद इन्हें जिस शब्द से मजाक में संबोधित करते थे ये थे भी उसी मिजाज के रामविलास पासवान हमेशा सत्ता के साथ रहे. उन्होंने छह प्रधानमंत्रियों के साथ कैबिनेट में काम किया था. राम विलास पासवान जो एक समय में कांग्रेस की सत्ता के खिलाफ इमरजेंसी के दौरान जेल गए थे, बाद में उसी की अगुवाई वाली यूपीए सरकार में मंत्री भी रहे. उस दौरान बीजेपी उनकी नीतियों का विरोध करती थी लेकिन मौजूदा मोदी सरकार में पासवान फिर से मंत्री बने.केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का 74 वर्ष की उम्र में गुरुवार शाम निधन हो गया. वो लंबे समय से बीमार चल रहे थे. उनके बेटे और एलजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने अपने ट्विटर हैंडल पर राम विलास पासवान के निधन की पुष्टि की है|

जीवन परिचय
रामविलास पासवान का जन्म 5 जुलाई 1946 में हुआ था. उनका पैतृक गांव खगड़िया जिले के अलौली स्थित शहरबन्नी गांव है. उनकी शादी 1960 में राजकुमारी देवी के साथ हुई थी. बाद में 1981 में उस पत्नी को तलाक देकर दूसरी शादी 1983 में रीना शर्मा से की. उनकी दोनों पत्नियों से तीन पुत्रियां और एक पुत्र है. उन्होंने कोसी कॉलेज खगड़िया और पटना यूनिवर्सिटी में पढ़ाई की. पटना विश्वविद्यालय से उन्होंने एमए और लॉ ग्रेजुएट की डिग्री ली. वह नॉनवेज पसंद करते थे. मछली उनकी पहली पसंद थी.