लेमरू हाथी प्रोजेक्ट को लेकर ग्रामीणों का विरोध शुरू, कांंग्रेस ने प्रोजेक्ट स्थगित करने का लिया फैसला….

0
122
file photo

सरगुजा समय अंबिकापुर– सरगुजा जिले के लेमरू हाथी प्रोजेक्ट को लेकर ग्रामीणों ने विरोध शुरू कर दिया। ग्रामीणों के समर्थन में कांग्रेस भी खड़ी हो गई है । स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव के निर्देश पर जिला कांग्रेस के अध्यक्ष राकेश गुप्ता ने कलेक्टर को पत्र लिखकर प्रोजेक्ट को स्थगित करने की मांग की है ।

हाथियों के सुरक्षित रहवास के लिए लेमरू हाथी प्रोजेक्ट राज्य सरकार की महत्वकांक्षी परियोजना है..इस योजना के तहत सरगुजा और कोरबा जिले के बड़े वन क्षेत्र को मिलाकर हाथियों के सुरक्षित रहवास को विकसित किया जाना है..लेकिन राज्य सरकार की आपत्ति के बाद केंद्रीय कोयला मंत्रालय ने इस क्षेत्र के कोल ब्लाक को नीलामी की सूची से पृथक कर दिया है… सरगुजा जिले के उदयपुर और लखनपुर ब्लाक के 39 गांव इस प्रोजेक्ट के दायरे में आ रहे है…बीते दो अक्टूबर को संबधित पंचायतों की ग्राम सभाओं में इस मुद्दे को भी रखा गया था.. ग्राम पंचायतों से प्रोजेक्ट के लिए सहमति जरूरी है इसकी कोशिश शुरू हो गई है.. इधर ग्रामीण लगातार इसका विरोध कर रहे है…

कांग्रेस ने लिया प्रोजेक्ट को स्थगित करने का फैसला

कांग्रेस के जिला अध्यक्ष राकेश गुप्ता ने कहा की कांग्रेस ने भी प्रोजेक्ट को फिलहाल स्थगित करने का फैसला लिया है..और सरगुजा कलेक्टर को प्रेषित पत्र में अवगत कराया है कि लेमरू प्रोजेक्ट का ग्रामवासियों के द्वारा विरोध किया जा रहा है..जिसको देखते हुए फिलहार इस प्रोजेक्ट को बंद करने की कवायद की जा रही है..अगर यह प्रोजेक्ट खोलने का प्रयास किया गया तो कांग्रेस इसका पुर जोर तरीके से ग्रामीणों के साथ मिलकर विरोध करेगी..

बहरहाल सरगुजा वनवृत्त हाथियों से सर्वाधिक प्रभावित है.. यहां वर्ष भर लगभग एक सौ हाथियों की मौजूदगी रहती है.. हाथी और मानव के बीच द्वंद की स्थिति है.. चाराए पानी के जुगाड़ में हाथी आबादी क्षेत्रों में प्रवेश कर नुकसान पहुंचा रहे है.. इंसानों की वजह से हाथी भी सुरक्षित नहीं है… ऐसे कठिन दौर में इस महत्वपूर्ण परियोजना के अस्तित्व में आने से हाथियों को लेकर चली आ रही समस्या दूर होगीए इसलिए ग्रामीणों की सारी शंकाओं को दूर करने की भी जरूरत हो सकती है।