जेल में योगा करती थीं रिया चक्रवर्ती, वकील सतीश मानेशिंदे ने बताया किन हालातों में गुजरे अभिनेत्री के 28 दिन….

0
114

सरगुजा समय एंटरटनमेंट- सुशांत सिंह राजपूत केस में अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती को बॉम्बे हाईकोर्ट से जमानत मिल गई है। उन पर ड्रग्स का लेन-देन और सेवन करने का आरोप है। बुधवार को अभिनेत्री को जमानत मिल गई। जिसके बाद उन्हे मुंबई की भायखला जेल से रिहा कर दिया गया है। रिया चक्रवर्ती को जमानत मिलने के बाद उनके वकील सतीश मानेशिंदे ने खुशी जाहिर की। साथ ही जेल में वह कैसे समय बिता रही हैं इस बारे में भी बताया है।

रिया चक्रवर्ती को जमानत मिलने के बाद सतीश मानेशिंदे ने मीडिया से बात की। इस दौरान उन्होंने जेल में रिया की हालत के बारे में बताया। साथ ही उन्होंने सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच कर रहीं तीन केंद्रीय एजेंसियां सीबीआई, ईडी और एनसीबी के लिए कहा कि वह रिया चक्रवर्ती के पीछे पड़ गई हैं। रिया चक्रवर्ती ने भायखला जेल में 28 दिन गुजारे थे। ऐसे में सतीश मानेशिंदे ने उन्हें फाइटर कहा है।

सतीश मानेशिंदे ने कहा, ‘मैं खुद जेल में जाकर उनकी हालत देखता था क्योंकि वह केवल परिस्थितियों का शिकार थीं। मुझे उनकी हिम्मत को देखकर खुशी होती थी। वह जेल में अन्य कैदियों के साथ योगा क्लास करती थीं। उऩ्होंने खुद को जेल के हिसाब से ढाल लिया था क्योंकि महामारी की वजह से उन्हें घर का खाना भी नहीं मिलता था। और वह अन्य कैदियों की तरह ही रहती थीं। एक आर्मी परिवार से संबंध रखने की वजह से वह खराब परिस्थितियों से लड़ीं’।

सतीश मानेशिंदे ने आगे कहा है कि वह हर उस शख्स का सामना करने को तैयार हैं जो उनपर आरोप लगाने और नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रहा है। सुशांत के परिवार के बारे में बात करते हुए सतीश मानेशिंदे ने कहा है कि वह रिया के पीछे सिर्फ इसलिए पड़े हैं क्योंकि वह सुशांत के लिए उनके परिवार से पहले थीं। साथ ही केंद्रीय एजेंसियां सीबीआई, ईडी और एनसीबी रिया के पीछे इसलिए पड़ी है क्योंकि एक सज्जन (सुशांत) के साथ वह लिव-इन में रह रही थीं।

इसके अलावा सतीश मानेशिंदे ने मीडिया चैनल्स में रिया चक्रवर्ती को लेकर चल रही खबरों पर भी अपनी गुस्सा जाहिर किया। उन्होंने कहा है यह सब टीआरपी के लिए कर रहे हैं। आपको बता दें कि बॉम्बे हाईकोर्ट ने रिया चक्रवर्ती के अलावा दीपेश सावंत और सैमुएल मिरांडा को भी कोर्ट ने जमानत दी है। वहीं, उनके भाई शौविक चक्रवर्ती और अब्दुल बासित परिहार को जमानत नहीं मिली है।