कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाये रखना भी बेहद जरूरी, अपनायें आयुर्वेदिक उपाय..


कोरिया 06 अक्टूबर 2020/ कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सुरक्षात्मक उपायों को अपनाने के साथ ही अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाये रखना भी बेहद जरूरी है। जिला आयुर्वेद अधिकारी डॉ आर.एन. मिश्रा ने बताया कि आयुष मंत्रालय भारत सरकार एवं छत्तीसगढ़ शासन द्वारा इस संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश भी जारी किये गये हैं। इनके अनुसार कोविड-19 के संक्रमण से बचाव हेतु एहतियात के तौर पर गर्म पानी पीना एवं प्रतिदिन कम से कम 30 मिनट योगासन, प्राणायाम एवं ध्यान करना फायदेमंद है। इसके साथ ही दिन में कम से कम दो बार भाप का सेवन तथा हल्दी, जीरा, धनिया, लहसून आदि मसालों का भोजन में प्रयोग करना भी लाभकारी है।
अन्य आयुर्वेदिक उपायों की जानकारी देते हुए आयुष क्वाथ, त्रिकटु काढ़ा एवं गोल्डन मिल्क तथा इनके सेवन की विधि भी साझा की। उन्होंने बताया कि आयुष क्वाथ तैयार करने हेतु तुलसी 40 ग्राम, काली मिर्च 20 ग्राम, सोंठ 20 ग्राम, दालचीनी 20 ग्राम लेना है। इसके बाद इन्हें सुखाकर पाउडर बनाकर हवा बंद डिब्बे में रख लें और 03 ग्राम पाउडर को 150 एमएल पानी में उबालें। आधा शेष रहने पर गुनगुना सेवन करें। वयस्क हेतु 30 से 40 मिली मात्रा में दिन में दो बार सेवन कर सकते हैं। 05 वर्ष से अधिक बच्चों के लिए 10 से 15 मिली. दिन में दो बार ले सकते हैं। इसे कोरोना संक्रमित के अलावा सामान्य व्यक्ति भी सेवन कर सकते हैं।


इसी तरह त्रिकटु पाउडर के साथ बनाया गया काढ़ा रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में बेहद मददगार है। इसके सेवन की विधि भी बहुत आसान है। त्रिकटु पाउडर 05 ग्राम, तुलसी 3 से 5 पत्तियां, 01 लीटर पानी मे डालकर उबालें, मिश्रण के आधा शेष रहने गुनगुना सेवन कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि वयस्क हेतु 30 से 40 मिली मात्रा में दिन में दो बार सेवन कर सकते हैं। 05 वर्ष से अधिक बच्चों के लिए 10 से 15 मिली. दिन में दो बार ले सकते हैं। इस काढ़े को भी कोरोना संक्रमित के अलावा सामान्य व्यक्ति भी सेवन कर सकते हैं। क्वाथ या काढ़ा के ताजा एवं गुनगुना ही सेवन करना है। गोल्डन मिल्क तैयार करने के लिए 150 मिली गर्म दूध में आधा चम्मच हल्दी चूर्ण मिलाकर दिन में एक से दो बार ले सकते हैं