सरगुजा में अधोसंरचना विकास के साथ पर्यटन विकास के हैं अपार संभावनाएं – मुख्यमंत्री


मुख्यमंत्री ने किया 154 करोड रूपए से अधिक के विकास कार्यों का ऑनलाईन लोकार्पण एवं शिलान्यास

मैनपाट के सुपलगा में मछली नदी पर पुल निर्माण, करदना से कदनई मार्ग में घुनघुट्टा नदी में पुल निर्माण तथा पेंट से पीडिया तक सड़क निर्माण की घोषणा
 

अम्बिकापुर 6 अक्टूबर 2020/ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से उच्च विश्रामगृह अम्बिकापुर में आयोजित विकास कार्यों का भूमि पूजन एवं परिचर्चा कार्यक्रम में 154 करोड़ 63 लाख 7 हजार रूपए के विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। इसमें 126 करोड़ 20 लाख 21 हजार रूपए के 32 कार्यों का शिलान्यास एवं 28 करोड़ 42 लाख 86 हजार रूपए के 9 कार्यों का लोकार्पण शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम के दौरान खाद्य मंत्री अमरजीत भगत एवं लुण्ड्रा विधायक डॉ. प्रीतम राम के मांग पर मैनपाट विकसखण्ड के सुपलगा में मछली नदी पर पुल निर्माण, मैनपाट विकसखण्ड के करदना से कदनई मार्ग में घुनघुट्टा नदी में पुल निर्माण, मैनपाट विकासखण्ड के पेंट से पीडिया तक सड़क निर्माण, लुण्ड्रा विकसखण्ड के धौरपुर-डूमरडीह रोड़ का चौड़ीकरण, लुण्ड्रा विकसखण्ड के रघुनाथपुर-धौरपुर सड़क मरम्मत कार्य तथा लुण्ड्रा विकसखण्ड के करौली से पडौली तक सड़क मरम्मत कार्य की घोषण की।


 इन कार्यों का हुआ भूमि पूजन – 55 करोड 9 लाख 11 हजार रूपए की लागत से लोक निर्माण विभाग द्वारा विकासखण्ड अम्बिकापुर, उदयपुर, सीतापुर एवं लुण्ड्रा में विभिन्न सड़क एवं भवन निर्माण कार्य, 17 करोड 62 लाख 58 हजार रूपए की लागत से छत्तीसगढ़ ग्रामीण सड़क विकास अभिकरण विकास द्वारा अम्बिकापुर, लखनपुर, उदयपुर एवं लुण्ड्रा विकासखण्ड में विभिन्न सड़क निर्माण कार्य, 26 करोड 25 लाख 7 हजार रूपए की लागत से प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत अम्बिकापुर, लखनपुर, उदयपुर एवं लुण्ड्रा विकासखण्ड में विभिन्न सड़क निर्माण कार्य, 27 करोड 23 लाख 45 हजार रूपए की लागत से जल संसाधन विभाग द्वारा विकासखण्ड सीतापुर, लुण्ड्रा एवं मैनपाट में विभिन्न व्यपवर्तनों का निर्माण कार्य। भूमि पूजन में कुल 126 करोड़ 20 लाख 21 हजार रूपए के निर्माण कार्य शामिल हैं।


 इन कार्यों का हुआ लोकार्पण- 4 करोड 16 लाख 76 हजार रूपए की लागत से सीतापुर विकासखण्ड के मडवासरई में 20 कि.मी. लम्बी सड़क, 3 करोड़ 98 लाख 53 हजार रूपए की लागत से शासकीय पॉलिटेक्निक कॉलेज भवन द्वितीय तल का निर्माण, 1 करोड 81 लाख 69 हजार रूपए की लागत से सीतापुर में 100 सीटर आईटीआई भवन, 1 करोड़ रूपए की लागत से लुण्ड्रा में पटवारी प्रशिक्षण शाला भवन निर्माण, 62 लाख 83 हजार रूपए की लागत से लुण्ड्रा विकासखण्ड के सिलसिला में शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय का भवन निर्माण, 42 लाख 84 हजार रूपए की लागत से पुसिल प्रशिक्षण विद्यालय मैनपाट में गार्ड हाउस कम अरमरी भवन निर्माण कार्य, 6 करोड 47 लाख 45 हजार रूपए की लागत से लखनपुर विकासखण्ड के हंसडांड लटोरी से दर्रीपारा तक सड़क निर्माण कार्य, 5 करोड 24 लाख 48 हजार रूपए की लागत से केवरा कटाईपारा से पर्री तक सड़क निर्माण कार्य तथा 4 करोड 68 लाख 28 हजार रूपए की लागत से अम्बिकापुर बिलासपुर रोड से गुमगराकला सड़क निर्माण कार्य। लोकार्पण में कुल 16 करोड 40 लाख 21 हजार रूपए के निर्माण कार्य शामिल हैं।


मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि सरगुजा जिले में अधोसंरचना विकास के साथ ही पर्यटन की भी अपार संभावनाएं हैं। उत्तरीय क्षेत्र सरगुजा प्रदेश का मस्तक है जो पर्वतों, जंगलों, नदियों एवं झरनों से भरा-पूरा है। सरगुजा में ही छत्तीसगढ़ का शिमला कहे जाने वाले मैनपाट स्थित है जहां की जलवायु एवं प्राकृतिक सौन्दर्य अपने आप में अनुपम है। उन्होंने कहा कि पर्यटन स्थल केवल सैलानियों के मनोरंजन स्थल ही नहीं बल्कि इससे स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरगुजा जिले में राज्य शासन की योजनाओं का बेहतर क्रियान्वयन हो रहा है चाहे वह नरवा, गरवा, घुरूवा और बाड़ी योजना, राजीव गांधी न्याय योजना, गोधन न्याय योजना, मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान, मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना हो। इसके साथ ही स्वच्छता के क्षेत्र में अम्बिकापुर ने जो मुकाम हासिल किया है वह देश एवं विदेश में भी उल्लेखनीय है। सरगुजा जिले से ही गांव-गांव जाकर ग्रामीणों को बैंकिंग सुविधा का लाभ देने बैंक सखी की शुरूआत की गई जो पूरे प्रदेश के लिए अनुकरणीय है। सरगुजा जिले की स्व सहायता समूह की महिलाओं द्वारा अनेक नवाचारी कार्य किए जा रहे हैं। मैनपाट में महिलाओ द्वारा सुन्दर एवं आकर्षक कालीन निर्माण का कार्य किया जा रहा है। इस कालीन निर्माण को व्यावासायिक रूप से आगे बढ़ाएं ताकि प्रदेश एवं देश तक इसकी पहुंच बन सके और निर्माण कार्य में लगे महिलाओं को अधिक से अधिक आय प्राप्त हो सके।    


मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार किसानों को अधिक से अधिक सुविधा देने के लिए काम कर रही है। इसीक्रम में हमने छत्तीसगढ़ के सभी जिलों में किसानों के खेत तक जाने वाले धरसा को भी सड़क बनाने का निर्णय लिया है जिससे अब किसान अपने खेतों तक सुगमता से पहुंच सकेंगे। धरसा को सडक बनाने के लिए लोक निर्माण विभाग द्वारा शीघ्र ही कार्य प्रारंभ किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वामी आत्मानंद ऐसे महापुरूष हैं जिन्होंने छत्तीसगढ़ में जनसेवा के रूप में स्वास्थ्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किया है। स्वामी आत्मानंद की जंयती के अवसर पर आज से प्रदेश के सभी शासकीय उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय स्वामी आत्मानंद शासकीय उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय कहलाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में देश का पहला मोबाईल बिजली एप्प का प्रारंभ किया गया है। इस एप्प के माध्यम से बिजली से सम्बंधित कोई भी काम बडी आसानी से अपने एंड्राइड मोबाईल से ही किया जा सकता है। अब लोगों को बिजली ऑफिस जाने की आवश्यकता नहीं है।


कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे नगरीय प्रशासन एवं विकास तथा जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने वीडियों कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सम्बोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में प्रदेश के साथ ही सरगुजा जिले में भी विकास के नए आयाम शुरू हुई है। उन्होंने कहा कि यह हमारे लिए गौरव की बात है कि आज मुख्यमंत्री द्वारा 154 करोड से अधिक के विकास कार्यो की सौगात दी गई है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टीएस सिंहदेव ने कार्यक्रम से ऑनलाईन जुडकर सरगुजा जिले को मिली विकास कार्यों के सौगात के लिए शुभकामनाएं दी। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने कहा कि कोरोना काल में भी सरगुजा जिले को इतना बड़ा सौगात मिलना सौभाग्य की बात है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में तमाम विषम परिस्थितियों के बावजूद प्रदेश में आर्थिक मंदी जैसी कोई बात नहीं है। मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार लॉकडाउन अवधि में जरूरतमंद लोगों के घरों में राशन पहुंचाया गया जिससे उन्हें घर से निकलने की जरूरत नहीं पड़ी। धान खरीदी एवं पीडीएस सिस्टम का भी बेहतर संचालन किया जा रहा है। मंत्री भगत ने संबोधन के दौरान मैनपाट विकासखण्ड के पहुंचविहीन क्षेत्रों में पुल एवं सड़क निर्माण की स्वीकृति सहित दरिमा एयरपोर्ट से शीघ्र विमान सेवा प्रारंभ करने मुख्यमंत्री से आग्रह किया। उन्होंने कहा कि जगदलपुर से विमान सेवा प्रारंभ हो चुका है अब अम्बिकापुर से भी जल्द से जल्द विमान सेवा की शुरूआत हो। कार्यक्रम को स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम एवं लुण्ड्रा विधायक डॉ0 प्रीतम राम ने भी सम्बोधित किया।


कलेक्टर श्री संजीव कुमार झा स्वागत उद्बोधन में कहा कि सरगुजा जिले में सभी योजनाओं का बेहतर क्रियान्वयन करने के प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि आज से 64 गोठानों में गोधन न्याय योजना के तहत गोबर खरीदी शुरू की जाएगी। इसके साथ ही जिले  के 153 गोठानो में गोबर खरीदी होगा। उन्होंने बताया कि गोठानो में गोबर से उच्च गुणवत्ता के वर्मी कम्पोष्ट का निर्माण किया जा रहा है।


कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने विहान की स्व सहायता समूह की महिलाओं तथा बैंक सखियों से आत्मीय बातचीत कर कुशलक्षेम पूछा। जिला अंतव्यवसायी विकास योजना के अंतर्गत ट्रेक्टर एवं गुड्स कैरियर राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति वित्त एवं विकास निगम के माध्यम से हितग्राही कैलाश राम को ट्रेक्टर एवं महेन्द्र तिर्की मालवाहक मिनी ट्रक का चाबी सौंपा गया। गोधन न्याय योजना के तहत सरगवा गोठान समिति उदयपुर द्वारा वर्मी कम्पोष्ट निर्माण का वन विभाग को पहली खेप विक्रय करने पर वर्मी कम्पोष्ट खाद के एवज में गोठान प्रबंधन समिति के अध्यक्ष इन्द्रसेन सिंह को 10 हजार रूपए राशि का चेक दिया गया। इसी प्रकार जिले के बैंक सखी सुधा देवी एवं फगनी देवी के द्वारा क्रमशः 1 करोड़ 8 लाख एवं 1 करोड 17 लाख का लेन-देन करने पर प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया।


इस अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य वन औषधि पादप विकास बोर्ड के अध्यक्ष बालकृष्ण पाठक, श्रम कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष शफी अहमद, बीस सूत्रीय कार्यक्रम कार्यान्वयन समिति के उपाध्यक्ष अजय अग्रवाल, छत्तीसगढ़ खाद्य आयोग के अध्यक्ष गुरूप्रीत सिंह बाबरा, जिला पंचायत अध्यक्ष मधु सिंह, महापौर डॉ. अजय तिर्की जिला पंचायत के उपाध्यक्ष राकेश गुप्ता, कमिश्नर जिनेविवा किण्डो, पुलिस महानिरीक्षक रतनलाल डांगी, पुलिस अधीक्षक टीआर कोशिमा, जिला पंचातय के सीईओ कुलदीप शर्मा, डीएफओ पंकज कमल सहत अन्य स्थानीय जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी उपस्थित थे।