हृदय संबंधी बीमारियों कितना कारगर योग एवं ध्यान, जानने को अमेरिका में संगोष्ठी

0
3
yoga and meditation

‘अमेरिकन एकेडमी ऑफ योग एंड मेडिटेशन एक संगोष्ठी का आयोजन कर रहा है कि योग किस प्रकार हृदय संबंधी बीमारियों पर काबू पाने में मदद कर सकता है। हृदय संबंधी बीमारियां दुनिया में सबसे अधिक घातक बीमारियों में से एक है।

डॉ इंद्रनील बसु रे की अगुवाई में हृदय रोग विशेषज्ञों के एक समूह द्वारा ‘गंगा मिसिसिपी डायलॉग’ का आयोजन सप्ताहांत में किया जा रहा है।

विश्व के सबसे पुराने और सबसे बड़े योग विश्वविद्यालय (एसवीवाईएएसएस) के कुलपति डॉ एचआर नागेंद्र ने कहा कि हृदय संबंधी बीमारियों के मरीजों की वैश्विक स्तर पर तेजी से बढ़ती संख्या के कारणों में खराब जीवनशैली, व्यायाम की कमी, गलत आहार और मौजूदा जीवन में अत्यधिक तनाव शामिल हैं।
यह संस्थान योग से विभिन्न बीमारियों के इलाज के क्षेत्र में अग्रणी है।

इस डिजिटल कार्यक्रम में इस बात को रेखांकित किया जाएगा कि कैसे योग दिल के दौरे, पक्षाघात (स्ट्रोक), उच्च रक्तचाप, मधुमेह सहित विभिन्न बीमारियों पर काबू पा सकता है।

‘अमेरिकन एकेडमी ऑफ योग एंड मेडिटेशन द्वारा जारी एक बयान में उन्होंने कहा कि तनाव सबसे बड़ा कारक है और योग तंत्रिका तंत्र को संतुलित कर तनाव तथा इसके बुरे प्रभावों को रोकता है। संगोष्ठी का आयोजन विश्व हृदय दिवस के मौके पर किया जा रहा है। 

डॉ इंद्रनील बसु रे की अगुवाई में हृदय रोग विशेषज्ञों के एक समूह द्वारा ‘गंगा मिसिसिपी डायलॉग’ का आयोजन सप्ताहांत में किया जा रहा है।

विश्व के सबसे पुराने और सबसे बड़े योग विश्वविद्यालय (एसवीवाईएएसएस) के कुलपति डॉ एचआर नागेंद्र ने कहा कि हृदय संबंधी बीमारियों के मरीजों की वैश्विक स्तर पर तेजी से बढ़ती संख्या के कारणों में खराब जीवनशैली, व्यायाम की कमी, गलत आहार और मौजूदा जीवन में अत्यधिक तनाव शामिल हैं।
यह संस्थान योग से विभिन्न बीमारियों के इलाज के क्षेत्र में अग्रणी है।

इस डिजिटल कार्यक्रम में इस बात को रेखांकित किया जाएगा कि कैसे योग दिल के दौरे, पक्षाघात (स्ट्रोक), उच्च रक्तचाप, मधुमेह सहित विभिन्न बीमारियों पर काबू पा सकता है।

‘अमेरिकन एकेडमी ऑफ योग एंड मेडिटेशन द्वारा जारी एक बयान में उन्होंने कहा कि तनाव सबसे बड़ा कारक है और योग तंत्रिका तंत्र को संतुलित कर तनाव तथा इसके बुरे प्रभावों को रोकता है। संगोष्ठी का आयोजन विश्व हृदय दिवस के मौके पर किया जा रहा है।