8.9 C
New York
Wednesday, July 28, 2021
Home देश दिल्ली अयोध्या विवाद फैसला : पीएम मोदी ने नेताओं को दी नसीहत

अयोध्या विवाद फैसला : पीएम मोदी ने नेताओं को दी नसीहत

नई दिल्‍ली। अयोध्या राम मंदिर बाबरी मस्जिद भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला कुछ ही दिनों में आ जाएगा। सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार काफी सजग है।

इसी बीच पीएम ने केंद्रीय मंत्रियों को खास नसीहत भी दी है। पीएम ने मंत्रिओं को सलाह दी है कि वो इस दौरान उकसाने वाली बयानबाजी न करने और सद्भाव बनाए रखें. कोर्ट के फैसले के पहले देश में किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए सुरक्षा व्यवस्था के भी कड़े इंतजाम किए गए हैं.

उन्होंने कहा कि ये फैसला हार और जीत से परे है. अयोध्या मामले में अगले हफ्ते फैसला आने वाला है. ये फैसला 17 नवंबर से पहले आएगा क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई इस दिन सेवानिवृत्त हो रहे हैं.

सिर्फ यही नहीं केंद्र सरकार ने अपने सभी सांसदों और मंत्रियों को अपने अपने निर्वाचन क्षेत्रों में रहने को कहा है. इसके साथ ही फैसले के बाद भी शांति कायम करने की अपील की है।

खास बात है कि पीएम मोदी का ये बयान बीजेपी के अपने पार्टी कार्यकर्ताओं और प्रवक्ताओं को अयोध्या मुद्दे पर भड़काउ और भावनात्मक बयानों से दूर रहने की अपील के बाद आया है।

आरएसएस ने भी की थी अपील

यही नहीं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने बीते दिनों अपने स्वयंसेवकों से भी ऐसी ही अपील की थी. संघ के नेताओं ने प्रचारकों के साथ हुई बैठक में ये कहा गया कि अदालत के फैसले को लेकर न तो जुनूनी जश्न होना चाहिए न ही हार का हंगामा।

वहीं राम जन्मभूमि/बाबरी मस्जिद विवाद में सर्वोच्च न्यायालय का संभावित फैसले को देखते हुए बुधवार को केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के बुलावे पर मुस्लिम बुद्धिजीवियों और संघ के वरिष्ठ प्रचारकों की एक अहम बैठक हुई।

इसमें मुस्लिमों की तरफ से जमीयत उलेमा-ए-हिंद के महासचिव मौलाना महमूद मदनी, कमाल फारुकी, प्रोफेसर अख्तरुल वासे, शाहिद सिद्दीकी समेत कई लोगों ने शिरकत की. वहीं संघ की तरफ से इसके सह सरकार्यवाह यानी ज्वाइंट जनरल सेकेट्री डॉ. कृष्ण गोपाल और संघ के अ.भा. सह संपर्क प्रमुख रामलाल शामिल हुए।

प्रोफेसर अख्तरुल वासे ने कहा कि मुसलमानों ने अपने पिछले मत को सरकार के सामने स्पष्ट करते हुए कहा कि हमने पहले भी कहा है और अब भी बगैर किसी भय के स्पष्ट करना चाहते हैं कि सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला होगा उसे हम स्वीकार करेंगे।

शुभांकुर पाण्डेय प्रधान कार्यालय
प्रधान संपादक- शुभांकुर पाण्डेय
प्रधान कार्यालय – लोक नायक जय प्रकाश वार्ड क्रमांक 29 मायापुर अम्बिकापुर जिला सरगुजा छत्तीसगढ़ 497001 नोट :- सरगुजा समय वेबसाइट एवं अख़बार में पोस्ट किये गए समाचार में कई अन्य उपयोगकर्ताओं द्वारा प्रस्तुत सामग्री (समाचार,फोटो,विडियो आदि) शामिल होता है ,जिससे सरगुजा समय इस तरह के सामग्रियों के लिए कोई ज़िम्मेदारी स्वीकार नहीं करता है। सरगुजा समय में प्रकाशित ऐसी सामग्री के लिए संवाददाता/खबर देने वाला स्वयं जिम्मेदार होगा, सरगुजा समय या उसके स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक की कोई भी जिम्मेदारी किसी भी विवाद में नहीं होगी. सभी विवादों का न्यायक्षेत्र अम्बिकापुर जिला सरगुजा छत्तीसगढ़ होगा।
RELATED ARTICLES

हैवानियत की हद: मां से मिलने के बहाने ले गया, सेक्स किया और फिर गला दबाकर ली पत्नी की जान

नई दिल्ली। एक सनसनीखेज मामले सामने आया है। मां से मिलने के बहाने ले गया, फिर सेक्स करने के बाद गला दबाकर हत्या...

August में 15 दिन बंद रहेंगे बैंक, आज ही निपटा लें जरूरी काम, देखिए छुट्टियों की पूरी लिस्ट…

Bank Holidays in August 2021: अगर आपका बैंक का जरूरी काम अटका है तो तुरंत ही निपटा लें, क्योंकि अगले महीने अगस्त में...

Vijay Mallya: लंदन की अदालत से विजय माल्या को लगा तगड़ा झटका, हुआ दिवालिया घोषित, बैंकों ने जीता केस

नई दिल्ली। भगोड़ा कारोबारी विजय माल्या को लेकर भारतीय बैंकों के हक में लंदन की अदालत से बड़ा फैसला आया है। लंदन...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

रात को भोजन में पिता-पुत्र और भतीजे ने खाई मछली की सब्जी, सुबह होते ही तीनों ने तोड़ा दम, पुलिस ने जताई इसकी आंशका

पटनाः  शाम को घर में मछली पकाकर खाना एक ही परिवार के तीन लोगों को महंगा पड़ गया. रात को सब्जी में मछली...

BIG BREAKING : प्रदेश के 27 प्राचार्यों और व्याख्याताओं को दी गई BEO की जिम्मेदारी, स्कूल शिक्षा विभाग ने जारी किया आदेश

रायपुरः शिक्षा विभाग ने बड़े पैमाने पर प्रदेश के अलग अलग स्कूलोें में पदस्थ व्याख्याताओं और प्राचार्यों को विकासखंड शिक्षा अधिकारी बना दिया...

बड़ी खबर: विधानसभा का मानसून सत्र, स्वास्थ्य मंत्री सदन छोड़ कर बाहर निकले, कही ये बड़ी बात

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा के मानसून सत्र के दूसरे दिन भी कांग्रेस विधायक बृहस्पत सिंह मामले को लेकर हंगामा हुआ। इस बीच स्वास्थ्य मंत्री...

हैवानियत की हद: मां से मिलने के बहाने ले गया, सेक्स किया और फिर गला दबाकर ली पत्नी की जान

नई दिल्ली। एक सनसनीखेज मामले सामने आया है। मां से मिलने के बहाने ले गया, फिर सेक्स करने के बाद गला दबाकर हत्या...

Recent Comments

error: Content is protected !!